दलाल

Binary Options Brokersवर्तमान में , 400 से ज़्यादा व्यापारिक मंच और दलाल उपलब्ध है । 2008 में जब बाइनरी व्यापार शुरू हुआ था उस समय ऐसे हालात नहीं थे और सिर्फ 10 व्यापारिक मंच मौजूद थे । निवेशकों के लिए इतने सारे दलालो का आजाना काभी लाभदायक है क्योंकि इस से काफी प्रतियोगिता शुरू होगई और निवेशकों को उची वापसी और ज़्यादा बोनस मिलने लगे ।

बाइनरी विकल्प दलालो की तुलना

जब आप बाइनरी विकल्प में व्यापार शुरू करते है, उस समय सही दलाल को चुनना ही सबसे महत्वपूर्ण फैसला है । हमने यह कार्य आपके लिए काफी आसान कर दिया है क्योंकि हमने आपके लिए सबसे विश्वसनीय और प्रशिक्षित दलाल ढूंढे है और उनको हमारी बाइनरी वैकल्पिक दलाल की तुलना की सूचि में शामिल किया है ।

हमारी वेबसाइट को पूरे विश्वास के साथ ब्राउज करे, हम पूरे विश्व के दलालो की सबसे ज़्यादा विश्वसनीय, सटीक और आधुनिक सूचि प्रदान करते है ।

3 आसान चरणों के साथ शुरू हो जाओ:

one

नीचे दी गई सूची से एक दलाल चुनें

 बोनसन्यूनतम
जमा
अधिकतम वापसी
  
Binary Option Robot
100%
$200
91%
एक मुक्त खाता खोलपढ़िए समीक्ष
iqoption
100%
$10
92%
एक मुक्त खाता खोलपढ़िए समीक्ष
24Option
100%
$250
89%
पढ़िए समीक्ष
finpari
100%
$250
90%
पढ़िए समीक्ष

two

एक दलाल खाता पंजीकृत करें

मैं व्यक्तिगत रूप से व्यापार के लिए छह अलग दलालों का उपयोग करता हूँ और सभी गंभीर व्यापारियों को सिफारिश करूंगा कि परिसंपत्तियों की एक अच्छी किस्म का निर्माण करने के लिए अलग दलालों के साथ कुछ खाते खोलें।

three

चार आसान चरणों के साथ व्यापार शुरू करें:

Four Steps

सर्वश्रेष्ठ द्विआधारी ब्रोकर 2016

Binary Options 2016सर्वश्रेष्ठ बाइनरी वैकल्पिक दलाल 2016 फ़िलहाल, कोई भी ऐसा रेगुलेटर नहीं है जो सभी बाइनरी विकल्प और विदेशी मुद्रा की गतिविधियो की देखरेख कर सके । कुछ वर्षो में इस तरह के व्यापार में काफी वृद्धि हुई है । इसका मुख्या कारण पूरे विश्व में आये टेक्नोलॉजी में बदलाव और सुलभता में बढ़ाव है । जिस के परिणामस्वरूप , बाइनरी व्यापार और विदेशी मुद्रा को रेगुलेट करने के लिए कई रेगुलेटरी संस्थाए बनायीं गयी है ।.

ज़्यादातर मामलो में, यह संस्थाए एक भूगोलिक क्षेत्र में ही सक्रिय रहती है और इनका मुख्या कार्य यह है की यह विभिन्न बाइनरी विकल्प और दलालो को मॉनिटर करे , मुख्य रूप से व्यपारियो की सुरक्षा के लिए ताकि दलाल अपना कार्य श्रेष्ठ तरीके से करे ।

कई सारे बाइनरी वैकल्पिक और विदेशी मुद्रा दलाल व्यपारियो को आकर्षित करने के लिए काफी मोहक व्यापारिक मंच भी प्रदान कर रहे है । इस को ध्यान में रखते हुए , कई व्यापारी इस सोच में है की किसी भी बाइनरी विकल्प या विदेशी मुद्रा में निवेश करना सही है । सच तो यह है की बाजार में मौजूद सभी दलाल सम्मानित नहीं है । जैसे की U.S.A में , दलालो पर किसी भी U.S में स्थित व्यापारी को स्वीकार करने के लिए काफी कठोर रेगुलशन्स है ।

इन्ही रेगुलेशन्स के कारण कई दलाल कई भूगोलिक क्षेत्रो से व्यपारियो को स्वीकार नहीं कर सकते । बजाय इस बात के की आप सभी दलालो की सूचि को पढ़े ,हमे यह बताते हुए ख़ुशी है की हमने आपके लिए बाजार में मौजूद सभी दलालो की जांच की और आपके लिए इस वर्ष के सर्वश्रेष्ठ बाइनरी विकल्प और विदेशी मुद्रा दलालो की एक सूचि बनाई।

सभी बाइनरी विकल्प और विदेशी मुद्रा दलाल जो इस पन्ने पर हमने आपको बताये है, उनकी हमारे द्वारा जांच की गयी है और वह सभी वास्तविक है और अपने किये गए वायदे पूरे करते है । हम सिर्फ यही नहीं रुके और आपके लिए हमने क्षेत्रो के अनुसार सिफारशी दलालो का एक ग्रुप भी बनाया, जो की बेस्ट इंडियन बाइनरी ऑप्शन ब्रोकर्स में काम करते है । इसलिए आपको सिर्फ अपने क्षेत्र के अनुसार अपने दलाल को चुनना है, जिसके बाद आपको सिर्फ साइन अप करना है और आप सीधा व्यापार शुरू कर सकते है ।

Tipsबाइनरी वैकल्पिक व्यापार दलालो को चुनने और तुलना करने के सुझाव

व्यापार की दुनिया आपको कई उत्तेजित करने वाले प्रस्ताव देती है लेकिन उनका सही मायने में आनंद लेने के लिए आपको एक बाइनरी वैकल्पिक दलाल के दिशा निर्देश की ज़रुरत पड़ती है । एक सही दलाल को चुनना एक काफी डरावना और चुनौतीपूर्ण कार्य हो सकता है , लेकिन यह ज़रूरी भी है । दलाल आपको व्यापार के दौरान अच्छे नतीजे लाने में और निवेश से सर्वश्रेष्ठ वापसी लाने में आपकी मदद करते है ।

बाजार में कई बाइनरी वैकल्पिक दलाल मौजूद है जो आपकी ग्राहक के रूप में सहायता करने के लिए उत्तेजित है । हलाकि यह ध्यान में रखा जाये की एक बाइनरी दलाल को ढूंढना एक विस्तार से भरा कार्य हो सकता है और यह बहुत ज़रूरी है की आप एक काबिल दलाल को चुने जो की आपके सारे व्यापारिक कार्य करने में सक्षम हो । नीचे दी गयी कुछ सलाह है जो इस कार्य को थोड़ा आसान बना सकती है और सर्वश्रेष्ठ दलाल चुनने में आपकी सहायता कर सकती है ।

1. जमा करने का बोनस – अपनी पहली जमापूंजी और दुबारा जमा करने पर पर आपको कितना बोनस मिलता है ।
2. भुगतान – बाइनरी वैकल्पिक व्यापार कई भुगतान विकल्प देता है । कई दलाल आपको परिवर्तनशील विकल्प देते है जिनसे आप समाप्ति दिनांक से पहले उनसे बाहर निकल सकते है । कई बार दलाल ( उदाहरण के तौर पर 240 ऑप्शन ) आपको 90 % भुगतान तक का विकल्प देते है । सभी व्यापरियो का मुख्य उदेश्य होता है व्यापार से मुनाफा कमाना और एक अच्छे बाइनरी दलाल की मदद से, व्यापारी सफलता प्राप्त कर सकते है ।इसके इलावा नीचे दिए लाभो की तरफ ध्यान दे :

  • विभिन्न भुगतान के विकल्प
  • ज़्यादा बोनस
  • शानदार Customer Support

3. जमा करने और निकालने के विकल्प – व्यापार शुरू करने के लिए आपके पास जमा करने और निकालने के अलग अलग विकल्प मोजूद है । जो आपके लिए सब से बेहतर है उसे चुने ।
4. विभिन्न तरह के स्टॉक ऑप्शन और वारंट क्लोजिंग समय ।
5. न्यूनतम जमा राशि – व्यापार शुरू करने के लिए आपको व्यापारिक मंचो पर अलग अलग न्यूनतम जमा राशि देनी पड़ती है । जो आपके लिए सब से बेहतर है उसे चुने ।
6. व्यापारिक उपकरण – कई व्यापारिक मंचो पर व्यापारिक संकेत और आटोमेटिक व्यापर का विकल्प हो सकता है और कई पर नही । अपने व्यापारिक उपकरण की पसंद के हिसाब से अपने व्यापारिक मंच का चयन करे ।
7. डेमो अकाउंट – कई व्यापारिक मंच अपने बाइनरी वैकल्पिक व्यपारियो की जरूरत को पूरा करते है, ख़ास तौर पे पहली बार निवेश करने वाले निवेशक के लिए एक डेमो अकाउंट बना कर । यह असली व्यापार करने से पहले व्यापर के तरीके सीखने में उनकी मदद करता है ।
8. ग्राहक सेवा – इस चीज़ की जांच कर लीजिये की व्यापारिक मंच की ग्राहक सेवा आपके बाइनरी वैकल्पिक व्यापर के सवालो के जवाब देने के लिए उचित है ।
9. आसान उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस – यह एक भरोसेमंद और पेशेवर तरीके से बनाया हुआ व्यापारिक कार्यक्रम है जिसको इस्तेमाल करना काफी आसान है । यह उपयोगकर्ता का काफी समय और मेहनत बचाता है । मुख्य रूप से सभी कार्यक्रम web based और यह सब इंटरैक्टिव कंट्रोल के साथ इस्तेमाल करने में काफी आसान है।
10. विभिन्न सम्पतियो में निवेश – पेशेवर software का सबसे बड़ा लाभ यह है की निवेश करने से रोकता नहीं है । भरोसेमंद बाइनरी विकल्प दलालो को ,अलग अलग सम्पतिया जैसे की विदेशी मुद्रा, कमोडिटीज और स्टॉक्स में निवेश करने का विकल्प देना चाइये। निवेशक के लिए यह लाभ होने के मौके में वृद्धि कर सकता है।
11. समाप्ति दिनाँक की जानकारी – भरोसेमंद दलाल आपको साप्ताहिक रूप से दिनांक ख़त्म होने की जानकारी देते है, कई दलाल रोज़ाना और हर घंटे में भी जानकारी देते है । सबसे ज़्यादा व्यापार नियंत्रण तभी होता है जब दिनाँक की ख़त्म होने की ज़्यादा से ज़्यादा जानकारी दी जाये ।
12. भुगतान की सबसे ज़्यादा प्रतिशत – भरोसेमंद दलाल अपने ग्राहकों को सबसे ज़्यादा भुगतान प्रतिशत देते है । उन व्यापारिक मंचो की खोज करे जो आपको 75 से 91 प्रतिशत तक का भुगतान दे , ऐसी स्थिति में असफल व्यापारी भी निवेशकों के लिए 5 से 10 प्रतिशत तक की वापसी ला सकते है ।
13. विभिन्न भाषाएँ – वैश्विक व्यापारिक विकल्प विभिन्न भाषाओ का इस्तेमाल भी काफी आसान बना देते है, इसलिए इन मंचो का इस्तेमाल भाषाओ के स्पेक्ट्रम के समर्थन के लिए भी किया जा रहा है ।

व्यापारिक मंचो में बहुत सी समानताएं होने के बावजूद, बोनस,शुरुवाती जमा पूँजी,ज़्यादा से ज़्यादा भुगतान, पैसे जमा करने और निकलने के तरीके , व्यापार का समय और उनकी ग्राहक सेवा के तरीके अलग हो सकते है । आपको ऐसे व्यापारिक मंच भी मिल सकते है जो वापसी ना मिलने की स्थिति में व्यापारी को उनके निवेश का कुछ प्रतिशत वापिस करदे । इसलिए अपना व्यापारिक मंच चुनने से पहले उनके बारे में जानकारी लेना बहुत ज़रूरी है । बाइनरी वैकल्पिक रोबोट का इस्तेमाल करना अक्सर लाभदायक होता है ।

बाइनरी वैकल्पिक व्यापार की मूल बाते

Basics of Binary Option Tradingकिस तरह की सम्पत्तिया उपलब्ध है ?

Binary trading आपको काफी विकल्प देता है जिसमे कमोडिटीज,मुद्रा जोड़ी, इंडिसेस और स्टॉक्स शामिल है । इतने विकल्प होने के कारण आप एक तरह की संपत्ति के लिए सीमित नहीं रह जाते और यह व्यापार की दुनिया के रास्ते आपके लिए खोल देता है । अब आप एक ही व्यापारिक मंच पर Apple stock, विदेशी मुद्रा,सोना और चांदी में व्यापार कर सकते है । अब आपके पास दलालो को बदलने के बिना ही अलग अलग विदेशी व्यापार करने का विकल्प है ।

अच्छी बात यह है की इन प्रमुख दलालो में से बहुत से दलाल अपने व्यपारियो को उनके व्यापारिक मंच का इस्तेमाल करने देते है और उन्हें एशिया और यूरोप दोनों से काफी इंडिसेस और स्टॉक्स के विकल्प देते है । मूल रूप से आपके सारे व्यापार एक ही जगह पर किये जा सकते है और आपको विभिन्न स्क्रीन या सिस्टम्स इस्तेमाल करने की कोई ज़रुरत नहीं है । बाइनरी वैकल्पिक दलाल मुख्य रूप से आपकी सभी व्यापारिक ज़रूरतों का एक जवाब है ।

औसतन एक व्यापार कितनी देर चलता है?

Binary Options Trading 60 Secondsबाइनरी वैकल्पिक में व्यापार करते समय आपको यह बात ध्यान में रखनी है की हर व्यापार एक सीमित समय में होता है जिसकी आपको पालना करनी होगी । यह लंबाई में 60 सेकंड या उस से ज़्यादा तक होता है । आप अपने लाइफस्टाइल के हिसाब से श्रेष्ठ विकल्प को चुने । अगर आप ज़्यादा समय इंतज़ार नहीं कर सकते तो आप 5 मिनट या 60 सेकंड के व्यापार को चुने । यदि आप इंतज़ार कर सकते है तो आप 60 मिनट या उस से भी लम्बे व्यापार के विकल्प को चुन सकते है ।

समाप्ति समय के बारे में यह जानकारी बहुत महत्त्व रखती है की उसे सिर्फ तब तक बदला जा सकता है जब तक आपने किसी व्यापार को सहमती नहीं दी है । अगर आपने एक व्यापार को सहमती दे दी है, उस स्थिति में जब तक व्यापार ख़तम नहीं हो जाता आप आराम से बैठ जाये । यह बाकी के वित्तीय व्यापारों से अलग है जिनमे आप अपने जमा किये हुए शेयर्स को कभी भी बेच सकते है । कई दलाल है जो जमा की गयी पूंजी की बहुत कम वापसी पर आपको अपना व्यापार बेचने दे सकते है । हलाकि यह अनुभवी व्यपारियो के लिए एक बहुत ही दुर्लभ स्थिति है ।

सबसे आम बाइनरी वैकल्पिक

Most Common Types of Binary Options

बाइनरी वैकल्पिक में , मुख्य रूप से तीन तरह के व्यापार होते है :

  1. पहले तरह का व्यापार होता है “call/put” option. इस तरह के व्यापार में , आपको बस यह भविष्यवाणी करनी होती है की समय समाप्ति तक किसी संपत्ति का मूल्य बढ़ेगा या कम होगा ।
  2. “One-touch trades” वह व्यापार होता है जिसकी शुरुवात में ही आपको एक लक्ष्य मूल्य दे दिया जाता है । अगर समय समाप्ति तक आपकी संपत्ति उस मूल्य तक पोहंच जाती है तो आपको मुनाफा होता है । इस लक्ष्य मूल्य की जानकारी आपका दलाल आपको काफी पहले दे देता है ताकि आप पहले से ही तैयारी कर ले और उसके बारे में अच्छे से जानकारी हासिल करले ।
  3. इन तीनो में आखरी है “boundary trade“. दलाल आपको मूल्य के काफी विकल्प देगा, आपको बस यह तह करना होता है की संपत्ति का मूल्य दी गए रेंज में ही रहेगा या लक्षित रेंज से बहार जायेगा ।

सभी व्यापारी आपको कई विकल्प देते है और कई आपको 300 % भुगतान तक का विकल्प भी देते है ( दलाल पर निर्भर करता है )। इसकी एक उदाहरण है ” वन टच ट्रेड ” जिसका लक्ष्य रेट काफी असामान्य है । इस तरह के भुगतान के लिए आपको ऐसे विकल्प को चुनना होता है जिसको हासिल करना काफी मुश्किल होता है, दूसरे शब्दो में आपको येस की भविष्यवाणी करनी होगी , और उसका दूर के मूल्य आपके व्यापार का नतीजा होगा । इस तरह के व्यापार आपको सबसे ज़्यादा वापसी देते है क्योंकि सही नतीजे की भविष्यावानी करना काफी मुश्किल होता है ।

मैं किस बाइनरी वैकल्पिक को चुनु?

Binary Options Trading Strategiesमुख्य तोर पर यह आप पर निर्भर करता है की कौनसी संपत्ति आपके लिए सबसे अच्छी है । पहले आपको अपने अनुभव का मूल्यांकन करना होगा । क्या आपको विदेशी मुद्रा बाज़ार का अनुभव है या फिर आप कुछ नए लाभदायक व्यापार को आज़माना चाहते है ? अगर यह सब आप पर लागु होता है तो आप बाइनरी वैकल्पिक बाजार में अपनी रणनीति का इस्तेमाल कर सकते है । या फिर आपका अनुभव रोशन व्यापार में है ? क्या आप रोज़ाना बाजार में मौजूद जोखिम से मुक्ति चाहते है ? इस तरह के बाइनरी विकल्प से आपको पक्का लाभ मिलेगा क्योंकि आप उन सम्पत्तियो में अपना ध्यान लगा सकते है जिनको आप अच्छी तरह से पहचानते है ।

हलाकि अंत में आपके निजी लक्ष्य ही आपके व्यापार के चयन में आपकी मदद करते है । पहले आपको अपने लक्ष्य निर्धारित करने होंगे और फिर उनको हासिल करने की रणनीति बनानी होगी । अगर आप एक सप्ताह में एक हज़ार डॉलर कमाना चाहते है , तब आपको यह फैसला लेना होगा की कौनसे विकल्प और कौनसी समय सीमा आपको आपका लक्ष्य पूरा करने में मदद करेगे।

हर व्यापारी के लिए इन सवालो का जवाब अलग है । हालांकि आपको गुणवत्ता वाले व्यापार की तरफ ध्यान देना चाहिए , ना की मात्रा वाले । छह सफल व्यापार आपको , पांच हारने और सात जीतने वाले व्यापार से बेहतर लाभ देगे। अपने व्यापार के विकल्प चुनने में थोड़ा समय बतीत करे ताकि आपको लाभदायक नतीजे मिल सके ।

संदर्भ / इसके अलावा पढ़ना:

  1. IMPORT INTENSITY OF EXPORTS: A CASE STUDY OF INDIAN ECONOMY (Manas B.)
  2. Indian Economy since Independence (V. Dandecar)
  3. The Face You Were Afraid to See: Essays on the Indian Economy (Amit Bhaduri)
  4. The sustainability of trade deficits in the presence of endogenous structural breaks (Biswajit Nug)
  5. In Pursuit of Lakshmi: The Political Economy of the Indian State (Lloyd Rudolph)
  6. Absorbing External Shocks: The Gulf Crisis, International Migration Linkages and the Indian Economy, 1990 (Ashwani Saith)
  7. The Bharatiya Janata Party and globalisation of the Indian economy (Salim Lakha)
  8. Growth, Disparity and Capital Reorganisation in Indian Economy: Some Speculations (Mundle Sudipo)
  9. Ethics and values in Indian economy and business (P. Kanagasa)
  10. Towards a Reinterpretation of Nineteenth-Century Indian Economic History (Morris Morris)
  11. The Significance and Growth of the Tertiary Sector: Indian Economy (Madhusudan Datta)
  12. Structure of Indian Economy: Inter-Industry Flows and Pattern of Final Demands (R. Saluja)
  13. Understanding Reforms: Post-1991 India (Late Suresh)
  14. Political cycles in a developing economy: effect of elections in the Indian States (Stuti Khemani)
  15. Indian Economy at the Crossroads (Dhilip Mokherjee)
  16. IMPACT OF MERGERS AND ACQUISITIONS ON RETURNS TO SHAREHOLDERS OF ACQUIRING FIRMS (Neelam Reni)
  17. The Global Financial Turmoil and Challenges for the Indian Economy (D. Subarrao)
  18. Asia Before Europe: Economy and Civilisation of the Indian Ocean (N. Chaudhuri)

Latest posts by Marcio (see all)

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *