फोरेक्स ट्रेडिंग (विदेशी मुद्रा व्यापार)

Latest posts by Marcio (see all)

    Forex Tradingफोरेक्स फॉरेन एक्सचेंज का छोटा नाम है. फोरेक्स बाज़ार वो बाजार है जहाँ बाज़ार में सहमत कीमत पर कई मुद्राएँ खरीदी और बेची जाती हैं. शब्दशः फोरेक्स ट्रेडिंग का अर्थ है एक मुद्रा के बदले में दूसरी मुद्रा का व्यापार, निश्चित कीमत पर.

    आज फोरेक्स ट्रेडिंग, ट्रेडिंग की दुनिया में सबसे लोकप्रिय ट्रेडिंग में से एक है और लगभग USD $4 ट्रिलियन की आर्थिक गतिविधि इसके द्वारा रोजाना होती है. मुद्रा के जोड़े यानि युग्म एक विशिष्ट मूल्य पर सूचीकृत होते हैं जिससे ट्रेडर एक मुद्रा के बदले में दूसरी मुद्रा खरीद या बेच पाते हैं. आम युग्मों में USD/EUR एवं कई और शामिल हैं.

    आपकी ख़ास आवश्यकताओं के अनुसार सर्वोत्तम ब्रोकर चुन पाना आसान बनाने के लिए हमने श्रेष्ठतम ऑनलाइन ब्रोकर्स की समीक्षायें की है:

    Markets.Com समीक्षा

    100 देशों में ट्रेडिंग और 2 दर्जन से अधिक भाषाओं में उपलब्ध

    markets_logoयूरोपियन संघ में परिचालन की सारी अनुज्ञायें प्राप्त पूर्ण नियमित Markets.com ट्रेडिंग के लिए उत्पादों की एक पूरी श्रंखला प्रदान करता है, और साथ ही उद्योग की बेहतरीन सेवायें उपलब्ध कराता है. 25 भाषाओँ में उच्च गुणवत्ता की प्रभावी सेवा उपलब्ध है.

    2008 में शुरू हुए Markets.com के पास बाज़ार में सफलता पाने के लिए आवश्यक परिष्कृत और सटीक सूत्र हैं. उन्होंने शुरुआत की और ट्रेडिंग शर्तों को संयोजित कर दिया जो बहुत प्रतिस्पर्धी थीं. इसमें सघन स्प्रैड्स (विस्तार) और 200:1 तक का लिवरेज, बाज़ार का विश्लेषण कई भाषाओं में उपलब्धता ताकि 100 से अधिक देशों में स्थित ग्राहकों को सफलतापूर्वक सेवाएं डी जा सकें, शामिल हैं.

    मोबाइल डिवाइस पर ऑनलाइन उपलब्ध ट्रेडिंग हब और उच्च-शक्ति डाउनलोड के द्वारा, Markets.com सीऍफ़डी ट्रेडिंग और फोरेक्स ट्रेडिंग के सभी पक्षों पर फायदे प्रदान करता है. इसमें निम्नलिखित शामिल है:

    • कम शुरूआती जमा – $100
    • जोखिम मुक्त अन्वेषण के लिए डेमो खाता
    • Markets.com, सेफकैप इन्वेस्टमेंट्स लिमिटेड दवात संचलित है और CySEC द्वारा नियमित होता है
    • सदैव उपलब्ध समर्पित सहायता
    • प्रभावी शिक्षा केद्र और सहायक स्त्रोत
    • 200 से अधिक वित्तीय उत्पाद
    • व्यक्तिगत प्रशिक्षण और विश्व भर में मुफ्त लाइव सेमिनार
    • कई उच्च-क्षमता प्लेटफॉर्म्स
    • ग्राहकानुसार स्वागत बोनस
    • मुफ्त नव व मध्यम ट्रेडर विडियो शिक्षण और वेबिनार ताकि आप और सीख सकें
    • विशिष्ट ईबुक उपलब्ध
    • विशेषज्ञ बाज़ार विश्लेषण; लाइव स्ट्रीम अध्यतनीकरण
    • सक्रिय स्प्रेड
    • तुरंत पहुँच

    $2000 तक का जमा बोनस

    हमारा मूल्यांकन:4,5 stars

    Markets.com नए और अनुभवी दोनों तरह के फोरेक्स ट्रेडर्स के लिए एक शानदार फोरेक्स ब्रोकर है.

    नीचे दिए लिंक पर क्लिक करके मुफ्त डेमो खाता खोलें और $2000 तक का शानदार बोनस पायें:

    7 बाइनरी ऑप्शन्स समीक्षा: Markets.com: 4,5 सितारे.

    Plus500 समीक्षा

    बहु-परिसंपत्ति ट्रेडिंग यूएस, यूके, एशिया और यूरोप स्थित एक्सचेंज सहित

    plus500-logoयूके स्थित FCA (Financial Conduct Authority) द्वारा पूर्ण अनुमोदित और नियमित एवं ऑस्ट्रेलिया स्थित ASIC द्वारा भी नियमित, Plus500 ट्रेडिंग उत्पादों और उच्च गुणवत्ता के सदैव उपलब्ध ग्राहक सेवा केंद्र का श्रेष्ठ मिश्रण प्रदान करता है. पर ध्यान रखें आपके पूंजी जोखिम मुक्त नहीं है.

    2008 में Plus500 कंप्यूटर आधारित ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म के रूप में शुरू हुई थी. एक साल बाद, Plus500 CFD पर कोई-कमीशन-नहीं शेयर मुहैया करा रही थी. Plus500 ने कई वृहदतम अंतर्राष्ट्रीय बैंकों के साथ ठोस सम्बन्ध स्थापित करने में समय का निवेश किया है और इस बात के लिए भरपूर प्रयास किये हैं कि उनके ग्राहक विश्व के किसी भी कोने से प्रभावशाली तरीके से वित्तीय उत्पादों के सौदे कर सके. इन उत्पादों में शेयर, मुद्राएँ, सूचकांक और ईटीएफ एवं कई और उत्पाद शामिल हैं
    Plus500 अपने ग्राहकों के प्रति प्रतिबद्ध प्रतीत होती हैं एवं उन्हें पारदर्शिता, पेशेवर रुख और सहायता प्रदान करती है. वृहदतम अंतर्राष्ट्रीय बैंकों के साथ मजबूत संबंधों के जरिये Plus500 ग्राहकों को अधिक बड़े सौदे, अधिक प्रतिस्पर्धी कीमतें और बेहतर क्रियान्वन प्रदान कर पाती है. अन्य लाभिममें शामिल हैं:

    • काम आरंभिक ट्रेडिंग – €100
    • मोबाइल प्लेटफार्म की सुविधा (एंड्रोइड, आईओएस) और मैक व पीसी के लिए के लिए कंप्यूटर आधारित प्लेटफॉर्म्स
    • डेमो खाते पर निःशुल्क असीमित काम करने की आजादी
    • विशेषज्ञ विश्लेषण उपकरण
    • तत्काल प्रस्ताव/कोट्स प्रवाह
    • 200:1 पर लिवरेज राशि
    • जोखिम नियंत्रण उपकरण
    • पे-पाल, स्क्रिल या क्रेडिट कार्ड के माध्यम से धन जमा करवाने की सुविधा

    बोनस 25 यूरो (किसी जमा की आवश्यकता नहीं)

    हमारा मूल्यांकन:5 stars

    हमारा मत है कि हाल में Plus500 सबसे विश्वस्त और उच्चतम गुणवत्ता का फोरेक्स ब्रोकर है.

    इस लिंक से अभी एक डेमो खाता खोलें और €25 मुफ्त पायें:

    7 बाइनरी ऑप्शन्स समीक्षा: Plus500: 5 सितारे.

    आवा ट्रेड ब्रोकर (Ava Trade Broker) समीक्षा

    avatrade-logoअधुनातन ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफार्म ट्रेडर्स को शानदार अनुभव प्रदान करता है

    Ava Trade सेंट्रल बैंक ऑफ़ आयरलैंड के नियमन के अंतर्गत काम करता है और MiFID (मार्केट्स इन फाइनेंसियल इंस्ट्रूमेंट्स डायरेक्टिव) अनुपालित अनुज्ञा का धारक है. इन अनुज्ञाओं और नियमनों से ट्रेडर को जिंसों, मुद्राओं और सूचकांकों के सौदे करने के समय भरोसा रहता है. सख्त कानूनी आवश्यकताओं की वजह से Ava Trade के अपने ट्रेडर्स की परिसंपत्तियों की देखभाल व संभाल करने के तरीके पर प्रभाव स्वाभाविक है. वे ग्राहक के धन की सुरक्षा और आवश्यक रिपोर्टिंग का पूरा ख़याल रखते हैं.

    Ava Trade पेशेवर गुणवत्ता का ट्रेडिंग प्लेटफार्म उपलब्ध कराता है. यह एकदम आसान है और एकदम नए लोग, जिन्हें कोई पूर्व-अनुभव नहीं, वे भी इसे सरलता से सीख सकते हैं और ट्रेडिंग कर सकते हैं. अनुभवी ट्रेडर्स के लिए भी यह बेहद उपयोगी प्लेटफार्म है और साथ ही यह ट्रेडर की बढ़ती जरूरतों और बदलती ट्रेडिंग रणनीतियों के अनुसार और भी बेहतर व अनुकूल बनाया जा सकता है.

    Ava Trade सफल ट्रेडिंग के लिए आवश्यक जटिल परीक्षण और विश्लेषण हेतु अनुकूल बनाये जा सकने वाले उपकरण और सूचक प्रदान करता है. यदि ट्रेडर निर्धारित कर दे तो Ava Trade स्वचालित सौदे भी करने में सक्षम है, जिससे ट्रेडिंग प्रक्रिया बहुत
    आसान हो जाती है. अन्य लाभ इस प्रकार है:

    • आसानी से बाज़ार पर निगाह रखने की क्षमता
    • विशेषज्ञ विश्लेषण
    • डेस्कटॉप कंप्यूटर से, फोरेक्स और सीएफडी, दोनों, ट्रेड/सौदे करें
    • इस्तेमाल में आसान ख़ास ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर
    • चार्ट्स से सौदे करें
    • 30 अंतर्निर्मित सूचकों के साथ उन्नत ट्रेडिंग उपकरण
    • 200 से अधिक इंस्ट्रूमेंट्स (निवेशों) के साथ एकल स्क्रीन ट्रेडिंग की सुविधा
    • आसान ट्रेडिंग के लिए ट्रेडिंग टर्मिनल को अपने अनुकूल बनाने की सुविधा

    $5000 तक के जमा बोनस

    हमारा मूल्यांकन:4 stars

    Ava Trade एक भरोसेमंद फोरेक्स ब्रोकर है और बड़ा जमा बोनस दे रहा है – अवश्य आजमाने लायक है.

    इस लिंक से अभी एक मुफ्त डेमो खाता खोलें और $5000 तक का जमा बोनस पायें:

    7 बाइनरी ऑप्शनन्स समीक्षा: AvaTrader: 4 सितारे.

    ईटोरो समीक्षा

    etoro-logoसामाजिक ट्रेडिंग ब्रोकर जो ट्रेडर्स के बड़े समूह तक बाज़ार को ले जाने की चेष्टा रखता है

    दुनिया भर के सु-नियमित ब्रोकर्स की प्रतिष्ठित सेवायें प्रदान करने वाला ईटोरो CIF (साइप्रियात निवेश फर्म) के रूप में पंजीकृत है और CySEC (साइप्रियट प्रतिभूति एवं विनिमय आयोग) के अंतर्गत नियमित होता है. उनके मानक निष्कलंक हैं, और वे अपने ग्राहकों को CySEC विनियमों के अंतर्गत काम कर रहे भरोसेमंद पेशेवरों का साथ उपलब्ध कराते हैं.

    ईटोरो सूचकांकों, सीऍफ़डी स्टॉक्स, जिंसों और मुद्राओं के लिए सौदों के अवसर और वित्तीय उत्पाद उपलब्ध कराता है. ये उत्पाद/इंस्ट्रूमेंट पूर्ण प्रकटीकरण के साथ प्रदान किये जाते हैं और ग्राहक किसी भी और ब्रोकर के मुकाबले कहीं अधिक सरल और पारदर्शी तरीके से सौदे कर सकते हैं. ईटोरो की शुरुआत ह्होती थी पर यह विगत कुछ वर्षों में इसने खासी बढ़त हासिल की है. दुनिया भर के 140 देशों में फैले 2.75 मिलियन से भी अधिक ग्राहक आज ई-टोरो के अग्रणी ऑनलाइन सोशल निवेश प्लेटफॉर्म्स का इस्तेमाल करते हैं. यह ट्रेडिंग समुदाय बहुत सक्रिय है और रोजाना हजारों नए उपयोगकर्ता इससे जुड़ रहे हैं.

    ईटोरो एक नए तरह का ट्रेडिंग प्लेटफार्म हैं जो बेहद प्रतिस्पर्धी ट्रेडिंग परिस्थितियां प्रदान करता है और साथ अनेक अनूठे फायदे भी देता है जैसे:

    • इस्तेमाल में आसान प्लेटफॉर्म्स
    • सोशल ट्रेडिंग विकल्प
    • अभ्यास करने के लिए डेमो खाता
    • बड़े ट्रेडर्स का अनुगमन करने के अवसर
    • निजी ग्राहक सेवा
    • $10,000 तक के स्वागत बोनस
    • आसान विस्तार
    • तेज निकासी
    • रोलओवर पर कोई शुल्क नहीं

    $10,000 तक का स्वागत बोनस

    हमारी रेटिंग:4 stars

    ईटोरो (eToro) फोरेक्स बाज़ार में ट्रेडिंग करने का नया मजेदार और सामाजिक तरीका है.

    आगे के लिंक पर क्लिक करके मुफ्त डेमो खाता खोलें और बोनस पायें:

    7 बाइनरी ऑप्शन्स समीक्षा: ईटोरो: 4 सितारे.

    मैं ट्रेडिंग कैसे शुरू कर सकता हूँ?

    Forex Trading Screenshotट्रेडिंग शुरू करने से पहले आपको अपने लिए सही ब्रोकर का चुनाव करना होता है. सही ब्रोकर के चुनाव के बाद अपना ब्रोकिंग खाता खोलें. यदि आपका ब्रोकर आपको डेमो खाते की सुविधा देता है तो पहले उसे इस्तेमाल करके देखें. खाता खोलने की प्रक्रिया आसान होती है और यह ब्रोकर पर काफी हद तक निर्भर करती है. सॉफ्टवेयर इंस्टाल करने की जरुरत हो भी सकती है और नहीं भी.

    यदि आपने डेमो खाता खोला है तो कुछ जोखिम मुक्त सौदे करके देखें और ट्रेडिंग की प्रक्रिया को पूरी तरह से समझ लेने के बाद ही अपना वास्तविक खाता आजमायें. ट्रेडिंग खाता खोल लेने के बाद आपको अनुमोदित धनराशी स्त्रोत से इसमें पैसा डालना होता है और उसके बाद अपना पहला सौदा आप कर सकते हैं.

    सही फोरेक्स ब्रोकर का चुनाव

    सही फोरेक्स ब्रोकर का चुनाव करते समय आपको कुछ मुख्य बातों का ध्यान रखना चाहिए. याद रखें आप ब्रोकर को अपना वास्तविक पैसा दे रहे हैं जो उसके पास रहेगा, और आपको मालूम होना चाहिए कि आपके पास क्या समाधान या रास्ता उपलब्ध है यदि वो ब्रोकर भरोसेमंद ना साबित हो. यह भी महत्वपूर्ण है कि आप प्रतिष्ठित और जाने-पहचाने नाम के साथ काम करें और ध्यान दें कि उनके सर्वर भरोसेमंद हैं कि नहीं और वे किसी देश के नियम कायदों के अधीन हैं कि नहीं. यदि वे एक से अधिक देश के कानूनों से बंधें हों तो और भी अच्छा.

    एक प्रतिष्ठित ब्रोकर आपके निवेश की सुरक्षा सुनिश्चित करेगा और दिवालिया होने की स्थिति में अपील के लिए क्षेत्राधिकार भी मुहैया कराएगा. दिमाग में रखें कि फोन द्वारा आर्डर देने की स्थिति में अधिक कर्मचारियों वाला ब्रोकर ज्यादा ठीक रहेगा. ब्रोकर चुनते समय सबसे महत्वपूर्ण है उनकी वैधता; किसी अनजाने ब्रोकर पर सहज ही विश्वास ना कर लें. जब आप ऐसे ब्रोकर छांट लें जो इन आरंभिक आवश्यकताओं पर खरे उतरते हैं तब आपको दिए जा रहे विशेष प्रस्तावों और सुविधाओं पर विचार करें. ऐसा ब्रोकर चुनें जो आपको समझने में आसान प्लेटफार्म मुहैया करा रहा हो और ऐसी सुविधाएं दे रहा हो जो आपके मतलब की हों.

    स्वचालित फोरेक्स ट्रेडिंग

    इस तरह की ट्रेडिंग में आप विश्लेषण आधारित सॉफ्टवेयर का उपयोग कर मुद्राओं का सौदा कर सकते हैं. इन सॉफ्टवेयर को विभिन्न मुद्रा युग्मों की खरीद और बेचान से सम्बंधित निर्णय लेने में आपकी मदद कर सकने के लिए डिजाईन किया गया होता है. आपको अपने स्वचालित ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर में जानकारी प्रविष्ट करनी होती है कि तकनीकी उपकरणों और विश्लेषणों से आई सूचना/सिग्नल के आधार पर वो कब सौदा करे.

    सॉफ्टवेयर के पास “सिग्नल्स” आते हैं, जैसे कि बाइनरी आप्शन रोबोट के मामले में होता है, और जब सिग्नल एक पूर्वनिर्धारित प्रकार के आते हैं तो सॉफ्टवेयर किसी मुद्रा विशेष को खरीदने या बेचने का निर्णय ले लेता है. ध्यान देने की बात है कि जब आप स्वचालित ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर का उपयोग करते हैं तब आप अपनी सहज बुद्धि और ज्ञान का उपयोग नहीं कर पाते हैं. बेहतरीन से बेहतरीन स्वचालित ट्रेडिंग सॉफ्टवेयर भी गलती और त्रुटियों से मुक्त नहीं हो सकता और आंकड़ों को पढ़ने में गलती कर सकता है जो शायद आप न करें क्योंकि आपके पास अनेक प्रकार की अन्य जानकारी उपलब्ध होती हैं.

    फोरेक्स डेमो खाते

    अपने निवेश को बिना खतरे में डाले फोरेक्स ट्रेडिंग के बारे में आधारभूत जानकारी पाने व सीखने के लिए डेमो (प्रदर्शन) खाते एक बेहतरीन तरीका हैं. डेमो खाता आपके लिए बेहद फायदे की चीज होता है. इसका उपयोग कर आप ट्रेडिंग प्लेटफार्म, उसकी सुविधाओं व विशेषताओं और उसके काम करने के तरीके के बारे में स्वयं को परिचित करा सकते हैं. आप अलग अलग तट्रेडिंग रणनीतियां भी आजमा कर देख सकते हैं और जान सकते हैं कि कौनसी रणनीति आपके लिए ठीक रहेगी. लगभग सभी डेमो खाते पूर्ण कार्यात्मक होते हैं और बाज़ार कीमतें प्रदर्शित करते हैं. आप सौदे लगाने का अभ्यास कर सकते हैं और आपको निवेश खोने का डर भी नहीं होता. डेमो खाते से आप सुरक्षित और जोखिम मुक्त तरीके से फोरेक्स बाज़ार की कार्य प्रणाली समझने का अवसर मिल जाता है.

    लेनदेन की सामान्य जानकारी

    फोरेक्स ट्रेडिंग मुद्रा युग्मों की खरीद और बेचान पर आधारित होती है. अगर आप EUR/USDखरीद रहे हैं तो आप पहली (यूरो) खरीद रहे हैं और दूसरी (USD) बेच रहे हैं. अगर आप इसी युग्म को बेच रहे हैं तो आप पहली (यूरो) बेच रहे हैं और दूसरी (USD) खरीद रहे हैं. जैसे-जैसे युग्म की खरीद की मांग बढती है, यूरो मजबूत होता है और डॉलर की ताकत में कमी आती है. इसके विपरीत अगर युग्म की बेचान की मांग बढती है तो यूरो कमजोर होता है और डॉलर मजबूती पकड़ता है. इन परिवर्तनों से विनिमय दर में घटत-बढ़त होती रहती है.

    मुद्राओं के नाम और प्रतीक चिह्न

    मुद्राओं के नाम तीन अक्षरों से बने होते हैं. ये अक्षर देश और मुद्रा का नाम बतलाते हैं. उदाहरण के लिउए USD का मतलब है यूनाइटेड स्टेट्स डॉलर. AUD का मतलब है ऑस्ट्रेलियाई डॉलर, जबकि CAD का अर्थ है कैनेडियन डॉलर. फोरेक्स बाज़ार में कुछ मुद्राएँ ट्रेडर का अधिक गहन आकर्षण और ध्यान का पात्र होती हैं.

    इन मुद्राओं को “मेजर्स” यानि प्रमुख कहा जाता है और ये मुद्राएँ अन्य मुद्राओं के मुकाबले ज्यादा लेनदेन की जाती हैं. फोरेक्स बाज़ार में मेजर और मेजर युग्म (मेजर पेयर्स) के बीच भ्रमित न हों. मेजर पेयर्स यानि प्रमुख युग्म वे युग्म होते हैं जिनमें USD और एक दूसरी मुद्रा शामिल होती है. वे युग्म जिनमें USD नहीं होता वे प्रमुख युग्म नहीं कही जातीं. युग्म यानि पैर की पहली मुद्रा आधार मुद्रा कही जाती है.

    लॉन्ग्स और शॉर्ट्स (खरीद और बेचान)

    सामान्य अर्थ में अगर आप सोचते हैं कि मुद्रा युग्म की कीमतें बढेंगी, तो आप लॉन्ग पोजीशन में सौदा कर रहे हैं. इसके विपरीत आप सोचते हैं मुद्रा युग्म की कीमतें घटेंगी तो आप शोर्ट पोजीशन पर सौदे कर रहे हैं. फोरेक्स बाज़ार में फायदा पाने के इन दो तरीकों को लॉन्ग्स और शॉर्ट्स कहते हैं.

    यह पोजीशन तब बनती हैं जब आप सौदे यानि ट्रेड की शुरुआत करते हैं अगर आप खरीद रहे हैं तो आप लॉन्ग पोजीशन ले रहे हैं अगर आप बेच रहे हैं तो आप शोर्ट पोजीशन ले रहे हैं. इसे आसानी से याद रखने का तरीका है कि शोर्ट और सेल (बेचान) दोनों अंग्रेजी के ‘एस’ अक्षर से शुरू होते हैं. खरीदना और बेचना फोरेक्स बाज़ार में भ्रम उत्पन कर सकता है . इसके लिए याद रखें कि खरीद या बेचान हमेशा मुद्रा युग्म की प्रथम मुद्रा पर आधारित होता है. EUR/USD के मामले में या तो आप यूरो खरीद रहे होते हैं या फिर बेच रहे होते हैं (इसी समय पर डॉलर के साथ आप उलटा कर रहे हैं).

    लिवरेज क्या होता है?

    फोरेक्स बाज़ार में लिवरेज का इस्तेमाल करने में निवेश के लिए आरंभिक पूंजी उधार लेना शामिल होता है. पूंजी उगाहने की बजाय उधार लेने वाले इसे अन्य लोगों से ले लेते हैं. वे पूजी पाने के परंपरागत तरीकों का इस्तेमाल नहीं करते. जब फोरेक्स बाज़ार में इस्तेमाल की जाती है तब यह ब्रोकर से उधार ली गयी पूंजी होती है.

    प्रारम्भिक मार्जिन आवश्यकता के दृष्टि कोण से फोरेक्स ट्रेडिंग ऊंचे लिवरेज प्रदान करने के लिए खासा अच्छी है. ट्रेडर्स धन की बड़ी मात्रा बना और नियत्रित करने में सक्षम होते हैं. अगर आप मार्जिन के आधार पर लिवरेज की गणना करना चाहते हैं तो बस लेनदेन मूल्य में मार्जिन राशि का भाग दे दें. लिवरेज वैयक्तिक और कॉर्पोरेट, दोनों, निवेशकों द्वारा इस्तेमाल किया जा सकता है और इसके उपयोग से निवेश पर मिलने वाले लाभ को कई गुणा बढ़ाया जा सकता है.

    ब्याज दर

    ब्याज दर वह राशि है जो धन के इस्तेमाल के लिए वसूली जाती है. फोरेक्स बाज़ार में ब्याज दर ट्रेडिंग जोड़ों पर प्रभाव डाल सकती है क्योंकि जब लाभ की दर ज्यादा होती है तो निवेशित राशि पर ब्याज भी ज्यादा मिलता है. इससे, निवेश पर प्राप्त लाभ बढ़ता है.

    स्टॉक बाज़ार और फोरेक्स सहसंबंध

    वित्तीय रूप से सहसम्बन्ध एक सांख्यिकीय पैमाना होता है जो दो अलग-अलग प्रतिभूतियों के बीच सम्बन्ध बताता है कि उनकी वे एक दूसरे के अनुपात में किस तरह व्यवहार करती हैं. फोरेक्स बाज़ार में सहसम्बन्ध द्वारा सहसम्बन्ध गुणांक पता किया जाता है जो -1 से +1 के बीच होता है. +1 बेहद कम पाया जाता है और पूर्ण सकारात्मक सहसंबंध बतलाता है जिसका मतलब होता है कि यदि एक प्रतिभूति चढ़ती या गिरती है तो सम्बंधित दूसरी प्रतिभूति भी ठीक उसी प्रकार उसी अनुपात हर बार में चढ़ेगी या गिरेगी. इसके विपरीत -1 का मतलब होता है कि अगर एक प्रतिभूति चढ़े तो दूसरी गिरेगी यानि पूर्ण विपरीत दिशा में जाएगी.

    सहसम्बन्ध यदि 0 हो तो इसका अर्थ होता है कि गति या उतार-चढ़ाव पूर्णतः स्वतंत्र और असंबंधित हैं और कोई सहसम्बन्ध नहीं है. प्रतिभूतियों में पूर्ण सहसम्बन्ध शायद ही कभी पाए जाते हैं.. खरीद या बेचान के सिग्नलों के लिए केवल सहसम्बन्ध पर भरोसा नहीं करना चाहिए. बल्कि सहसम्बन्ध को अन्य बाज़ार सूचकांकों के साथ विचारना चाहिए.

    प्रवृत्ति/दिशा/ ट्रेंड

    जिस दिशा में बाज़ार या कोई एसेट विशेष जा रहा हों उसे दिशा/प्रवृत्ति या ट्रेंड कहा जाता है. ट्रेंड अल्प अवधि या दीर्घ अवधि के हो सकते हैं. ये मध्यावधि के भी हो सकते हैं. अगर ट्रेंड/प्रवृत्ति का पता चल सके तो यह बड़ा फायदेमंद हो सकता है क्योंकि ट्रेडर इसका फायदा उठा कर अपने लाभ को अधिक से अधिक कर सकते हैं.

    सामान्यतः ट्रेंड के साथ सौदे करना फोरेक्स ट्रेडिंग की सबसे आसान और सबसे फायदेमंद रणनीति है. अगर बाज़ार या एसेट सामान्यतः ऊपर की ओर जा रहा है तो दिशा के विपरीत सौदा करनाबुद्धिमानी नहीं होगी. प्रवृत्ति यानि ट्रेंड की दिशा में सौदे करना फोरेक्स ट्रेडिंग में सबसे असरदार और उपयोगी रणनीति है खासकर नए ट्रेडर्स के लिए.

    समर्थन और प्रतिरोध

    जब कोई स्टॉक बार-बार एक विशेष बिंदु से ऊपर नहीं जाता है तो इसे प्रतिरोध का स्तर कहा जाता है. प्रतिरोध के स्तर को उच्चतम सीमा (सीलिंग) भी कहा जात है क्योंकि कीमतें प्रायः इसके नीचे ही रहती हैं. जब कीमतें किसी विशेष स्तर के नीचे नहीं जातीं तब उस स्तर को समर्थन स्तर कहा जाता है. इसे निम्नतम स्तर (फ्लोर/फर्श) भी कहा जाता है क्योंकि एसेट/परिसंपत्ति की कीमतें इस स्तर के नीचे नहीं जातीं.

    उच्चतम और निम्नतम सीमाएं एसेट की कीमत के लिए महत्वपूर्ण सूचकांक हैं किन्तु इनका उपयोग अन्य सूचकांकों (जो एसेट की भावी कीमत और बाज़ार की दिशा बताने में सहायक हों) के साथ करना चाहिए.

    चल औसत

    तकनीकी विश्लेषण में चल औसत एक उपयोगी सूचक है जो कीमत की हलचल को मृदु बना देता है. यह बेतरतीब तरह से ऊंची-नीची कीमतों के पार्श्व शोर को हटाने के लिए फ़िल्टर का काम करता है. चल औसत पिछली कीमतों के आधार पर प्रवृत्तियों/ट्रेंड्स का पीछा करने वाले अनुगामी सूचक होते हैं.

    सामान्य रूप से काम में लिए जाने वाले चल औसत दो तरह के होते हैं. सरल चल औसत या SMA, परिभाषित समय अवधियों में प्रतिभूतियों का साधारण औसत निकालता है. घातीय चल औसत या EMA में एक सूत्र का प्रयोग होता है जो नवीनतम कीमतों को अतिरिक्त भार प्रदान करता है. चल औसत प्रवृत्ति की दिशा पहचानने में उपयोग लाये जाते हैं और साथ ही इसके द्वारा प्रतिरोध और समर्थन के स्तरों का भी अनुमान लगाया जाता है.

    सापेक्ष शक्ति सूचकांक (RSI)

    सापेक्ष शक्ति सूचकांक या RSI गति का तकनीकी सूचक है जो हाल के फायदों और नुकसानों की मात्रा की बीच तुलना करता है ताकि यह समझा जा सके कि हमने कोई एसेट/परिसंपत्तियां सीमा से अधिक तो खरीद या बेच नहीं दी. वे ट्रेडर जो RSI का इस्तेमाल करते हैं उन्हें ध्यान रखना चाहिए कि किसी भी एसेट में विशाल कीमत चढ़ाव व उतार मिथ्या या झूठे खरीद या बेचान सिग्नल उत्पन्न कर सकते हैं.

    स्टॉक्स चुनने के लिए इस उपकरण का इस्तेमाल किसी और उपकरण के साथ किया जा सकता है. कुछ सूचकांक जिनका इस्तेमाल सापेक्ष शक्ति सूचकांक या RSI के साथ किया जा सकता है वे हैं सपोर्ट और रेजिस्टेंस लेवल (समर्थन और प्रतिरोध स्तर) और बाज़ार ट्रेंड्स.

    आधार प्रवृत्ति (ट्रेंड) ट्रेडिंग रणनीति

    चलन, प्रवृत्ति, झुकाव या ट्रेंड के साथ ट्रेड करना वह रणनीति हैं जिसमें किसी परिसंपत्ति/एसेट विशेष की गति की दिशा का विश्लेषण कर लाभ कमाने की चेष्टा की जाती है. दिशा के साथ सौदा करने के लिए जब कीमतें बढ़ रही हों तो लॉन्ग पोजीशन यानि खरीद की जाती है और जब कीमतें घट रही हों तो शोर्ट पोजीशन यानि बिक्री की जाती है. इस रणनीति के पीछे का सिद्धांत यह है कि एसेट/परिसंपत्ति की कीमतें छोटी समयावधि, मध्यावधि या दीर्घावधि में ऊपर की तरफ या फिर नीचे की तरफ बढ़ना जारी रखेंगी. आप इसे Banc de Binary या 24option जैसे किसी बाइनरी ऑप्शन्स ब्रोकर के साथ आजमा सकते हैं.

    एक बार जब ट्रेडर लॉन्ग या शोर्ट पोजीशन ले लेता है तब वह उसी सौदे को तब तक बरकरार रखता है जब तक कि ट्रेंड यानि प्रवृति में बदलाव आना शुरू नहीं होता. जब बदलाव आता है, तब ट्रेडर को सावधानियां रखनी चाहिए ताकि उसका निवेश खतरे में ना पड़े.

    कैरी ट्रेडिंग

    कैरी ट्रेडिंग में कतिपय मुद्राओं को, उनकी कम ब्याज दर के कारण, बेचा जाता है और अन्य मुद्राओं, जिनकी ब्याज दर अधिक होती है, को खरीदा जाता है. इन दो दरों के बीच अंतर का फायदा ही ट्रेडर उठाता है. यह फायदा काफी बड़ा हो सकता है, खासकर कई प्रकार के लिवरेज इस्तेमाल करने के बाद. कैरी ट्रेडिंग में जोखिम मुद्रा विनिमय दरों में होने वाले परिवर्तनों की कारण उपस्थित होता है.

    अगर मुद्रा जोड़े की एक मुद्रा अन्य के मूल्य से नीचे आ जाती है तो ट्रेडर अपना निवेश खो देगा. कैरी ट्रेड लेनदेन बहुत से लिवरेज का उपयोग कर किये जाते हैं. जिसका मतलब है कि अगर पोजीशन सही तरह से हेज (बचाव) ना की गई हो तो विनिमय दर में हलका सा बदलाव भी बड़े घाटे में तब्दील हो सकता है.

    जोखिम प्रबंधन

    फोरेक्स (विदेशी मुद्रा) बाज़ार में जोखिम प्रबंधन में निवेश से सम्बंधित निर्णयों से जुड़ी अनिश्चितताओं कप पहचानना, विश्लेषण करना और उन्हें कम से काम करने के उपाय करना शामिल होता है. गंभीर निवेशकों और फण्ड प्रबंधकों के लिए यह लेनदेन का अनिवार्य अंग है क्योंकि यह संभावित नुकसान की गणना करने एवं उसके आधार पर, अपने-अपने निवेश उद्देश्यों और जोखिम उठाने की इच्छा के अनुसार, आगे कार्यवाही करने (या ना करने) का प्रयास होता है.

    अपर्याप्त जोखिम प्रबंधन बड़े नुकसानों और परिणामों में तब्दील हो सकता है जिससे कंपनी एवं ग्राहकोण, दोनों, को गहरा झटका लग सकता है. 2008 की मंदी की पीछे भी कुछ कारण अपर्याप्त जोखिम प्रबंधन से ही जुड़ें हैं. ऐसे लोगों को ऋण दिए गए जिनकी चुकाने की क्षमता कम या संदिग्ध थी. जोखिम प्रबंधन में दो चीजें शामिल होती हैं; पहली, पता लगाना कि कौनसे जोखिम निवेश में निहित हैं, और फिर अपने उद्देश्यों के अनुसार बनाई गयी रणनीति को अमली जामा पहनाना.

     

    Leave a Reply

    Your email address will not be published. Required fields are marked *